दुर्गामाता दौड़ में हथियारों की नुमाईश पर रोक लगाए…….

0
609
- Advertisement - Niyaaz Ad

बेलगाम-29/9/2016

दशहरा के मौके पर बेलगाम शहर और अतराफ़ में दुर्गा माता दौड़ के नाम पर गली मोहोल्ले में दौड़ लगायी जाती है.इस बात पर किसी को भी ऐतराज़ नहीं है के धार्मिक या मज़हबी जुलुस ,इजलास करने की सभी को भारत का दस्तूर इजाज़त देता है.बेलगाम शहर में सभी मज़ाहिब के लोग रहते है और इत्तेहाद चाहते है.लिहाज़ा इस दुर्गामाता दौड़ में हज़ारों की शिरकत होती है.पिछले कुछ सालों से जुलुस के दौरान इश्तेआल अंगेज़ नारों के साथ हथियारों की नुमाइश में भी इजाफा होता जा रहा है.हज़ारों की भीड़ और हाथों में तलवारों की नुमाइश अकलियती तबके के दिलों में डर ओ खौफ पैदा कर देता है.मुल्क में वैसे भी माहौल कुछ ठीक नहीं है.हर जगह पर मुस्लिम मआशरे को निशाना बनाने की कोशिश की जा रही है.बेलगाम पुलिस ने भी इससे पहले गणपति और ईद ए कुर्बान में बेहतरीन इंतज़ामात के ज़रिये फ़सादियों के मंसूबों को नाकाम कर दिया है.इस बार भी इन्हें इसी तरह से कानून का डर दिखा कर हथियारों की नुमाइश पर रोक लगा दे ताके बेलगाम में भाईचारगी कायम रहे ऐसा ज़िम्मेदार लोगों का कहना है.आगे उन्होंने पैगाम ए इत्तेहाद न्यूज़ को ये बताया के कुछ फिरकापरस्त ज़ेहनियत के अफ़राद इस जुलुस के ज़रिये तशद्दुद फ़ैलाने की कोशिश में लगे रहते है.बेलगाम पुलिस को चाहिए के ऐसे शरपसंद अनासिर को गिरफ्तार कर के माहौल में अम्न कायम करे.

bhide_guruji sreading hetret-ittehad news
देहात में फिरकापरस्तों की गुंडागर्दी……..
पहले तो शहर ए बेलगाम में ही दुर्गामाता दौड़ निकलती थी.दुर्गामाता दौड़ के लिए कोई तारीखी पसमंज़र तो नहीं है.बेलगाम शहर में भी पिछले कुछ ही सालों में इस जुलुस का एहतेमाम किया जा रहा है.हिंदुस्तान प्रतिष्ठान की जानिब से इसका एहतेमाम किया जाता है.पहले कुछ ही लोग हुआ करते थे पर अब सेंकडो की तायदाद में इसमें नौजवान शिरकत फर्मा रहे है.देहात में भी अब दुर्गामाता दौड़ का एहतेमाम किया जा रहा है.लेकिन रामसेना,शिवसेना,हिन्दूसेना जैसी तंज़ीम दशहरा के जुलुस के ज़रिये नफरत का पैगाम देती रहती है.ख़ास कर दिंदुस्तान प्रतिष्ठान के भिड़े गुरूजी पर भी धार्मिक भावनाओ को भड़काने के मुकद्दमे महाराष्ट्र में दर्ज है.तमाम पसे मंज़र देखते हुए.पुलिस को चाहिए के इस दशहरा के दुर्गामाता दौड़ पर नज़र रखे.खास कर मुस्लिम मोहोल्ले के रास्तों से गुज़रता है तो रास्तों को दूसरी तरफ मोड़ दे.हथियारों की नुमाईश तो दूर की बात हथियार ले जानेवालों पर करवाई करे ऐसा मुतालबा अम्न पसंद बेलगामवालों ने किया है.

Niyaaz Ad

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here