हज़रत टीपू सुल्तान संघर्ष समिति,कर्नाटक राज्य टीपू सुल्तान अभिमानीगळ महावेदीके की जानिब से गोकाक में टीपू सुल्तान सर्कल बनाने का मुतालबा …..

1
2485
- Advertisement - Niyaaz Ad

बेलगाम-30/9/2016

बेलगाम डीसी को एक मुतालबा पेश करते हुए टीपू सुलतान संघर्ष समिति ने कहा के पिछले कई सालो से हम गोकाक में ब्याली काटा के नाम से जाना जाता है.लिहाज़ा हज़रत टीपू सुल्तान सर्कल के नाम से मंसूब किया जाय.हज़रत टीपू सुल्तान मुजाहिद ए आज़ादी है जिसका लोहा अंग्रजों ने भी माना है.बहरहाल पहला मिसाइल भी टीपू शहीद रह० ने बनाया था.आज देश अगर आज़ाद है तो वह टीपू शहीद के खून के कतरों का सदका है.
टीपू संघर्ष समिति के सदर जनाब इमरान तपकिर ने कहा के सोलह साल पहले ही सर्कल को हज़रत टीपू शहीद के नाम से रजिस्टर किया गया था.लेकिन इसे अमली जामा नहीं पहनाया गया.अब तक यहाँ पर टीपू शहीद के नाम की तख्ती नहीं बिठाई गयी. मजीद अफ़सोस का मकाम ये है के यहाँ पर लहराया हुआ टीपू सुल्तान का परचम भी पुलिस और मुन्सिपलिटी की जानिब से निकाल कर फेंका गया है.आज हम इसकी पुरज़ोर मज़म्मत करते है.और गुज़ारिश करते है के जंग ए आज़ादी में अपना खून बहा कर जान की कुर्बानी पेश करनेवाले मुजाहिद ए आज़ादी का अहतराम करे.हज़रत टीपू शहीद की कुर्बानियों का हम तस्व्वुर भी नहीं कर सकते.लिहाज़ा परचम को दुबारा लहराए और टीपू शहीद सर्कल की तख्ती भी बिठाये.जिसके लिए हम आप को दो दिन की मुहलत देते है.राष्ट्र पुरुष के अपमान को हम बर्दाश्त नहीं करेंगे.ऐसा भी जनाब इमरान तपकिर ने कहा.

dsc_0201
हज़रत टीपू शहीद के नाम को वक़्त और ज़रूरत के मुताबिक़ इस्तेमाल करने की रस्म कर्णाटक में शुरू हुयी है.शेर ए मैसूर के नाम से पूरी अंग्रेज़ी हुकूमत खौफ ज़दा हुआ करती थी.जिस शहीद ने मुल्क की आज़ादी की शमा को रोशन किया आज उनकी कुर्बानी को भुलाने की साज़िशें भी रची जा रही है.इस मुल्क की आज़ादी को शेर ए मैसूर टीपू शहीद के बाद कई हिन्दू भाइयों ने अपनी कुर्बानिया पेश की है.ऐसा भी कहने से इमरान तपकिर नहीं चुके.
टीपू सुल्तान संघर्ष समिति के ज़िम्मेदाराना इस वक़्त शरीक रहे जिसमे ख़ुसूसन मुहम्मद यूनुस फानिबंद( तालुका सदर )
इमरान तपकिर(जिलाः सदर)मलिकजान तलवार( तालुका सदर )फज़लुद्दीन औटि( जिलाः नायब सदर )हैदर मुल्ला (सेक्रेटरी )img-20160930-wa0021
रफ़ीक नंदगडकर ,अज़ीज़ मोकाशी महबूब लाडखांन,इसक त्रासगर,मोहसिन हिरेकुड़ी मोहसिन बूड़ननवर,इरफ़ान मुल्ला यासीन डांगे,मोहसिन डांगे,फ़िरोज़ शेख अतहर यरगट्टी,शमन मुल्ला अल्लाबक्श मुल्ला लालसाब कौजलगी जमाल मुगुटखाँन अज़ीम कल्लोलीं आसिफ डवड़ी.मौजूद थे.
———————————————————————————
कर्नाटक राज्य टीपू सुल्तान अभिमानीगळ महावेदीके तंज़ीम के भी करकुंन इस अहतेज़ाज़ी जुलुस में शरीक रहे.इसमें जिलाः सदर शाजहाँन बड़गांवि,दस्तगीर पहलवान,आसिफ बस्सापुरे (खजांची)अज़हर मुजावर (तालुका सदर )इमरान पहलवान,साजिद मोमिन,बबलू नालबंद,रियाज़ फानिबंद ,मलिक बड़गांवि जावेद मोमिन शरीक रहे.

Niyaaz Ad

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here