एपीएमसी इंतेखाबात नायब सदर सुधीर गड्ढे ,۔ सदर आनंद पाटिल मुन्तख़ब- बिना विरोध के चुनाव,सभी की तवज्जोह एपीएमसी चुनाव पर…

0
382
- Advertisement - Niyaaz Ad

ना सिर्फ बेलगाम जिल्ह बल्कि पूरी रियासत की नज़र एपीएमसी चुनाव पर लगी हुयी थी क्यों के राष्ट्रिय पक्ष इसमें दाखिल हो चुके थे.कांग्रेस और भाजपा की तरह इसे देखा जा रहा था और सभी को यही भरोसा था के अक्सर उम्मीदवार भाजपा की तरफ है,ज़ाहिर है भाजपा का ही उम्मीदवार जित हासिल करेगा.पर हुआ कुछ और ही,बिना विरोध के सदर और नायब सदर मुन्तख़ब किये गए.बतौर सदर आनंद पाटिल तो नायब सदर सुधीर गड्डे को चुना गया.
दरअसल माजी पालकमंत्री सतीश जारकीहोळी,और मौजूदा पालकमंत्री रमेश जारकीहोळी ने कुछ इस तरह मोहरे बिछा दिए थे के मार्केटयार्ड चुनाव खास बन गया था.इसलिए चुनाव की अहमियत भी बढ़ गयी थी.इस चुनाव में कुल १७ सदस्यों को वोटिंग करनी थी.जिसमे किसानों के नुमाईन्दे ११ सोसाइटी के २ और कारोबारी १ हुकूमत की जानिब ४ नुमाईन्दे कुल मिलकर १७ नुमाईन्दे मौजूद थे.
इतवार की सुबह माजी पालकमंत्री सतीश अण्णा के ५ सदस्य समिति के ४ और भाजपा के २ इस तरह मन्सूबाबंदी की गयी थी.जिसे देखते हुए इसी की जित यकीनी थी.पर इसमें लक्ष्मी हेब्बालकर और रमेश जारकीहोळी के दरमियान मंसूबा तैयार हुआ जिसमे ये तय पाया गया के रमेश जर्कीहोळी का नुमाईन्दा सदर बनेगा और लक्ष्मी हेब्बालकर का नुमाईन्दा नायब सदर बनेगा.और इसी के तहत बिना किसी की मुखालिफत के आनंद पाटिल को सदर बनाया गया और सुधीर गड्डे को नायब सदर बनाया गया.
खास कर एपीएमसी चुनाव पर कर्नाटक रियासत की नज़र थी.

Niyaaz Ad

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here